हुनरमंद बुनकरों, कारीगरों को निरंतर मिलेगा प्रोत्साहन : मंत्री श्री हर्ष यादव

कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री हर्ष यादव ने भोपाल हाट में नेशनल हैण्डलूम एक्सपो के समापन अवसर पर प्रदेश के उत्कृष्ट शिल्पियों को राज्य-स्तरीय कबीर बुनकर एवं विश्वकर्मा पुरस्कार प्रदान किये। उन्होंने कहा कि माटी शिल्प, बांस शिल्प, काष्ठ कला, बुटिक प्रिंट, गोंडी चित्रकला, ब्लॉक प्रिंट, जूट शिल्प और ऐसी ही अन्य हस्तकलाओं के प्रतिभावान कलाकारों को निरंतर प्रोत्साहित किया जाएगा। कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री ने कलाकृतियों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।


मंत्री श्री यादव ने कहा कि वर्ष 2017-18, 2018-19 और 2019-20 के लिये निर्णायक मंडल द्वारा शिल्पियों का चयन कर उन्हें पुरस्कृत करने का कार्य प्रदेश की नई सरकार ने किया है। इससे शिल्पियों और कलाकारों को अपनी कला में सुधार और विक्रय से आर्थिक उन्नति के अवसर भी मिलेंगे। उन्होंने बताया कि अब प्रदेश में बुनकरों को प्रशिक्षण और वर्कशेड उपलब्ध करवाने पर ध्यान दिया गया है। उनके उत्पादों के विक्रय और विपणन के लिये भी आवश्यक सहयोग दिया जा रहा है। विभिन्न प्रदर्शनियों और मेलों में उनकी कलाकृतियों के प्रदर्शन के माध्यम से कलाकारों को लाभान्वित किया जा रहा है। इस अवसर पर श्री यादव ने स्मारिका का विमोचन किया।


मंत्री श्री यादव ने वर्ष 2017-18 के कबीर बुनकर पुरस्कार के लिये श्री अब्दुल रहीम चंदेरी (अशोकनगर) को प्रथम, मो. आरिफ खान महेश्वर (खरगोन) को द्वितीय और अशोक कुमार कोली चंदेरी (अशोकनगर) को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया। इसी वर्ष के राज्य-स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार से सुश्री समरीन नाज, इंदौर को प्रथम श्री फारूख खत्री बाग (धार) और राजीव नाफडे होशंगाबाद को पुरस्कृत किया गया।


वर्ष 2018-19 के राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार से भोपाल की श्रीमती नीतू यादव को प्रथम, ग्वालियर के श्री सौरभ राय को द्वितीय और उज्जैन के मो. वसीम छीपा को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया।


वर्ष 2019-20 के राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार से उज्जैन की नाजिश बी छीपा को प्रथम, बैतूल के अनिल बागमारे को द्वितीय और ग्वालियर के कार्तिके विश्वकर्मा को तृतीय पुरस्कार दिया गया। प्रोत्साहन पुरस्कार में 2018-19 के लिये बैतूल के ललित सोनी, उज्जैन की श्रुति गोखले, बाग (धार) के मो. काजिम खत्री और भोपाल के श्री मधुलाल श्याम को पुरस्कृत किया गया। वर्ष 2019-20 के प्रोत्साहन पुरस्कार के लिये ग्वालियर के श्री नानक माहोर को प्रथम, ग्वालियर के ही श्री शम्मी विश्वकर्मा को द्वितीय और उज्जैन के श्री हयात गुटृी को पुरस्कृत किया गया।


मंत्री श्री यादव ने हस्तशिल्प विकास निगम द्वारा बच्चों के लिये आयोजित की गई चित्रकला प्रतियोगिता में श्रेष्ठ चित्र बनाने वाले बच्चों को दो श्रेणियों में पुरस्कृत किया। इन बच्चों में मीत चावला प्रथम, अंतरिक्ष सेठिया एवं शीतल गुप्ता द्वितीय, तरन्नुम शेख तृतीय पुरस्कार से पुरस्कृत हुए। हैण्डलूम एक्सपो में श्रेष्ठ स्टॉल डिस्प्ले के लिये मनीष सोनगरे और आकांक्षा चौरसिया को पुरस्कार प्रदान किया गया। आयुक्त हस्तशिल्प श्री राजीव शर्मा उपस्थित थे।