आर्चबिषप ने रविवारीय प्रार्थना की बाध्यता को समाप्त किया


भोपाल । आर्चबिषप लियो कॅार्नेलियो ने अपने आर्चडायसिस के अंतर्गत आने वाले हरदा, भोपाल, होषंगाबाद और सीहोर के चर्चो, सदस्यों और संस्थानों के लिये एक सर्कुलर जारी कर लोगों से कोरोना से बचाव के लिये कुछ एहतिहात बरतने के निर्देष दिये हैं।  


आर्चबिषप ने सभी लोगों से आग्रह किया गया है कि बड़ी संख्या में इकट्ठा होने से बचें और स्यवं के साथ अपने घर और आसपास के वातावरण को साफ रखें।  अपने पत्र में आर्चबिषप ने रविवार की प्रार्थना में भाग लेने के दायित्व से भोपाल महाधार्मप्रांत के कैथोलिक विष्वासियों को छूट दी है। 


वरिष्ठ नागरिकों और सर्दी, खांसी या किसी भी कमजोरी से पीड़ित लोगों को प्रार्थना समारोहों से दूर रहने की सलाह दी है। उन्हें अपने परिवार के साथ प्रार्थना, बाईबल पढ़ने, रोजरी आदि के द्वारा अपने घरों में समय बिताने की सलाह दी गई है। यदि संभव हो तो, यू-ट्यूब या टेलीविजन पर धार्मिक प्रसारण का पालन कर सकते हैं।


आर्चबिषप ने उपरोक्त निर्देशों का पालन 31 मार्च तक किये जाने को कहा है। इसके बाद की जानकारी वे स्थिति के अनुसार आगे देंगें।


जनसंपर्क अधिकारी फादर मारिया स्टीफन ने बताया कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए अप्रैल माह की 12 तारिख को होने वाले ईस्टर महोत्सव को रदद् कर दिया गया है। उन्होने आगे बताया कि ईस्टर महोत्सव समिति और पी.आर. आफिस के छोटे दल द्वारा भोपाल शहर को इस महामारी से बचाने के लिये जगह-जगह जाकर प्रार्थना की जायेगी।