घटिया सड़क निर्माण करने वाली कंपनी जेएचवी एवं एमपीआरडीसी के अधिकारियों मिलनी चाहिए सजा ?



शहडोल। एमपीआरडीसी के द्वारा  जिले में जेएचवी कंपनी के माध्यम से दो सड़क बनाई गई है जैतपुर से बुढार और जैतपुर से अनूपपुर जिनकी लागत एक अरब रुपए से ऊपर है जिसमें  दोनों सड़कों को मिलाकर देखा जाए तो लंबाई लगभग 70 किलोमीटर है आज दोनों सड़कों  हालत बहुत खराब है।  घटिया सीमेंट व अधिक  रेत डाल कर सड़क  को बनाया गया है। जो की बरसात के 4 महीने भी नहीं झेल सकी। सड़क से  गिट्टी निकलकर कई जगह  गड्ढे हो गए हैं। सड़क फट गई गिट्टी अलग सड़क अलग दिख रही है। ऐसा लग रहा है कि। यह रोड  5 वर्ष पुरानी हो। सड़क में हजारों जगह सीमेंट के हार्ड घोल से छपका लगाया गया है। इसके अलावा सड़क पर बनी पुरानी पुलिया को नहीं तोड़ा गया। उसी को डेंटिंग पेंटिंग करके छोड़ दिया गया। जबकि ऐसा नहीं होना था। और सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है कि पुलिया के ऊपर जो रेलिंग बनाई जाती है। वह पुलिया पर भी रहनी चाहिए  लेकिन जेएचवी कंपनी के द्वारा पुलिया के ऊपर रेलिंग न लगाकर के पुलिया के बाहर  रेलिंग लगाई गई।  है। जिसे देखकर यह अनुमान लगाया जा सकता है   इस घटिया रोड निर्माण में भारी भ्रष्टाचार हुआ है। शासन के पैसे का दुरुपयोग किया गया है। और इसका कारण है। शहडोल जिले के एमपीआरडीसी में पदस्थ अधिकारी मुकेश जब कोई सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करता है  तो भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों द्वारा गलत जानकारी प्रदान की जाती है  और फिर शिकायतकर्ता के ऊपर दबाव बनवाया जाता है। कि अपनी शिकायत वापस ले लो। ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों के ऊपर जांच होनी चाहिए। और कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए।|