सरकार के लिए शर्म की बात, महिला दिवस पर महिलाओं का मुंडन : गोपाल भार्गव


नेता प्रतिपक्ष ने कहा अतिथि विद्वानों की सुध क्यों नहीं ले रहे हैं मुख्यमंत्री


भोपाल। प्रदेश के मुख्यमंत्री  कमलनाथ और उनकी पूरी सरकार के लिए इससे ज्यादा शर्म की बात और क्या हो सकती है कि महिला दिवस पर महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए मुंडन कराना पड़ रहा है। अतिथि विद्वानों इतने दिनों से अपनी मांगों को लेकर धरना दे रहे हैं, लेकिन अब तक उनकी सुध लेने के लिए सरकार का कोई भी जिम्मेदार उनके पास नहीं पहुँचा है। मुख्यमंत्री और कांग्रेस के नेताओं को तो सिर्फ चिंता सरकार बचाने की है। ये बातें नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कही।
उन्होंने कहा कि प्रदेश भर के अतिथि विद्वान अपनी मांगों को लेकर इतने दिनों से राजधानी के शाहजहानी पार्क में आंदोलन कर रहे हैं। यहाँ पर कई महिलाएं भी अपने बच्चों के साथ हैं। वे ठंड में परेशान हो रहे हैं, लेकिन उनकी इन परेशानियों को सरकार नजरअंदाज कर रही है। सरकार की हठधर्मिता के कारण कई अतिथि शिक्षक बेरोजगार हो गए हैं। इस बेरोजगारी के कारण पिछले दिनों एक शिक्षक आत्महत्या कर चुका है तो वहीं एक बालक की इलाज के अभाव में मौत हो चुकी है। इसके बाद भी मुख्यमंत्री इन शिक्षकों को लेकर कोई निर्णय नहीं कर रहे हैं।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि महिला दिवस पर महिलाओं को सम्मान मिलना चाहिए, लेकिन कांग्रेस के राज में महिलाओं का अपमान किया जा रहा है। इन महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरकर अपने सिर भी मुंडवाने पड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री  कमलनाथ  को मंत्रालय से निकलकर जमीनी हकीकत भी देखनी चाहिए। सरकार इन अतिथि विद्वानों की मांगों को पूरा करें और महिलाओं के सम्मान के साथ खिलवाड़ न करें।