'रामायण' ने तोड़े टीवी के पिछले पांच साल के सारे रिकॉर्ड्स


देशभर में लॉकडाउन वाली सिचुएशन बरकरार है. सारे काम-धंधे रुके हुए हैं. लोग घरों में बंद हैं. ऐसे में सरकार ने कोरोना की दनादन टेस्टिंग के बजाय लोगों को एंटरटेन करने का सोचा. जिस समय में दूरदर्शिता दिखानी चाहिए, वहां दूरदर्शन दिखाया जा रहा है. फिलहाल सीन ये है कि टीवी पर 33 साल बाद रामायण से लेकर महाभारत समेत कई नॉस्टैल्जिक शो री-टेलीकास्ट हो रहे हैं. और इस खाली समय का सदुपयोग करते हुए पब्लिक ने ‘रामायण’ को सबसे ज़्यादा देखा जाने वाला शो बना दिया है. पिछले पांच में सबसे ज़्यादा देखा जाने वाले हिंदी एंटरटेनमेंट चैनल शो. ये हम नहीं कह रहे है बार्क (BARC- Broadcasting Audience Research Council) वाले भाई लोग कह रहे हैं. अंग्रेज़ी नाम पढ़कर घबराने की ज़रूरत नहीं है. ये लोग टीवी पर क्या और कितनी मात्रा में देखा जा रहा है, इस बारे में बताते हैं.



28 मार्च से रामानंद सागर की ‘रामायण’ को टीवी पर दोबारा दिखाना शुरू किया गया. प्रति दिन दो शोज़. एक सुबह 9 बजे और दूसरा रात 9 बजे. शुरुआती दो दिनों में इस शो ने टीवी रेटिंग्स को रॉक कर दिया है.  शनिवार और रविवार को टीवी पर दिखाए गए चार एपिसोड्स को 17 करोड़ (170 मिलियन) लोगों ने देखा. 28 मार्च की सुबह आए पहले एपिसोड को 3.4 करोड़ (34 मिलियन) लोगों ने देखा और इस दौरान इस शो की टीआरपी रही 3.4 परसेंट. उसी शाम इसकी व्यूअरशिप में बड़ा उछाल देखने को मिला और दूसरा एपिसोड टीवी पर 4.5 करोड़ (45 मिलियन) लोगों ने देखा. टीवी रेटिंग पहुंच गई 5.2 परसेंट पर. इस शो को सिर्फ संडे वाले दिन (दोनों एपिसोड मिलाकर) 9 करोड़ से ज़्यादा लोगों ने देखा. ये जो आंकड़े हम आपकी ओर उछाल रहे हैं, ये पिछले पांच सालों के हिंदी एंटरटेनमेंट चैनल शो के सबसे बड़े नंबर्स हैं. ऐसा बार्क वालों का कहना है.


रामायण की जो रेटिंग्स आ रही हैं, उसमें आज के टाइम के यूथ का बहुत बड़ा हाथ है. वो इस शो का कोई भी एपिसोड नहीं छोड़ते. क्योंकि ये शो उनका मीम गेम स्ट्रॉन्ग कर रहा है. पूरा सोशल मीडिया रामायण मीम्स से भरा पड़ा है. अगर अब तक आपकी नज़र में कोई नहीं आया, तो दो-चार नमूने हम यहां दिखाए देते हैं-


बिलकुल ताजे मसले से शुरुआत करते हैं-



21 दिन के लॉकडाउन की वजह से देशभर के सभी टीवी सीरियल्स, फिल्मों और वेब सीरीज़ की शूटिंग रुकी हुई है. ऐसे में टीवी पर दिखाने के लिए नए एपिसोड्स तैयार नहीं हो पा रहे. बाकी चैनल्स ने अपने पुराने एपिसोड्स और शोज़ को दोबारा टेलीकास्ट करना शुरू कर दिया. सोशल मीडिया पर लोग-बाग दूरदर्शन से भी ऐसा ही कुछ करने की डिमांड करने लगे. 27 मार्च को सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट कर बताया कि वो लोग रामायण को 33 साल बाद दोबारा टीवी पर लेकर आ रहे हैं. 2020 का दूरदर्शन टाइम मशीन में बैठकर 1980 के दशक में पहुंच चुका है. क्योंकि सिर्फ रामायण ही नहीं, इस नेशनल चैनल पर पर ‘सर्कस’, ‘चाणक्य’, ‘श्रीमान श्रीमती’, ‘बुनियाद’, ‘देख भाई देख’ और ‘शक्तिमान’ जैसे शोज़ का भी पुन: प्रसारण हो रहा है. इन शोज़ की टाइमिंग आप ऊपर लगे ट्वीट में पढ़ सकते हैं.


 


साभार - the lallantop