नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हर्ष यादव की उपस्थिति में अनुबंध पर हस्ताक्षर हुए


भोपाल । नवीन और नवकरणीय ऊर्जा मंत्री  हर्ष यादव की उपस्थिति में पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया और रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (रम्स) के बीच मंत्रालय में आगर, शाजापुर और नीमच में कुल 1500 मेगावाट सौर पार्कों के ए आंतरिक ग्रिड संयोजन के लिए सब-स्टेशन एवं लाईन निर्माण के लिए अनुबंध किया गया। इस अवसर पर पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (PGCIL) को परियोजना सलाहकार सेवा प्रदान करने के लिए सलाहकार नियुक्त करते हुए समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड की ओर से  राजीव रंजन मीणा, मुख्य कार्यपालक अधिकारी, रम्स तथा टी.सी. शर्मा, कार्यपालक निदेशक, पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने समझौते पर हस्ताक्षर किए।


मंत्री  हर्ष यादव ने इस अवसर पर रम्स के अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि आगर, शाजापुर और नीमच सौर पार्क भी पूर्व में निष्पादित रीवा परियोजना की तरह इतिहास रचेंगे। नवीन और नवकरणीय ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनु श्रीवास्तव ने बताया कि आगर, शाजापुर और नीमच में 1500 मेगावाट के आगामी सौर पार्कों के लिए समझौते पर हस्ताक्षर से मुख्यमंत्री  कमल नाथ का प्रदेश को नवकरणीय ऊर्जा सम्पन्न राज्यों में अग्रणी बनाने में प्रमुख कदम होगा।  राजीव रंजन मीणा ने विश्वास जताया कि पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के सहयोग से परियोजना नियत समय में पूर्ण होगी।


रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (रम्स) को 550 मेगावाट आगर सोलर पार्क, 500 मेगावाट नीमच सोलर पार्क और 450 मेगावाट शाजापुर सोलर पार्क विकसित करने के लिए नवीन और नवकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) ने अधिकृत किया है। पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया सौर पार्कों से उत्पादित बिजली निकासी के लिए आवश्यक आंतरिक ग्रिड संयोजन के लिए सब-स्टेशन एवं लाईन निर्माण का विकास करने में सलाहकार की भूमिका निष्पादित करेगा। पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (PGCIL) भारत की सबसे बड़ी ट्रांसमिशन कम्पनी है, जो सौर पार्कों के सफल निष्पादन के लिए रम्स को सहयोग प्रदान करेगी।


विश्व बैंक, भारत में सोलर पार्कों के बुनियादी ढांचे के वित्तीय-पोषण के लिए इंडियन इनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी (IREDA) के माध्यम से 100 मिलियन अमेरिकन डॉलर का ऋण प्रदान कर रहा है। विश्व बैंक अनुदान योजना के तहत समर्थित होने वाले देश के पहले सौर पार्कों में मध्यप्रदेश के 750 मेगावाट रीवा अल्ट्रा-मेगा सोलर पार्क और 250 मेगावाट का मंदसौर सौर पार्क शामिल है। पार्क सफलतापूर्वक पूर्ण क्षमता से उत्पादन प्रारंभ कर रहे हैं। विश्व बैंक ने आगर, शाजापुर और नीमच ने राज्य में तीन सौर पार्कों के वित्त-पोषण के लिए स्वीकृति दी है।