CAA पर बोले पीएम मोदी दबाव के बाद भी फैसले पर कायम रहेंगे

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर दिल्ली के शाहीन बाग़ समेत कई जगहों पर प्रदर्शन हो रहे हैं. 16 फरवरी को शाहीन बाग़ से प्रदर्शनकारियों ने अमित शाह के आवास तक मार्च किया, लेकिन उन्हें बीच में ही रोक दिया गया. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि तमाम दबावों के बावजूद उनकी सरकार CAA के फैसले पर कायम है और रहेगी. इससे पहले अमित शाह ने भी कहा था कि वो इस फैसले पर एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के चंदौली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि दुनियाभर के तमाम दबावों के बाद भी CAA पर हम कायम हैं और कायम रहेंगे. पीएम मोदी 16 फरवरी को वाराणसी के दौरे पर थे. वाराणसी में कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मोदी चंदौली पहुंचे. यहां उन्होंने दीनदयाल उपाध्याय की 63 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया.


‘दबाव के बावजूद फैसले पर कायम हैं और रहेंगे’


पीएम मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाना हो या फिर CAA, इन फैसलों का देश को कई साल से इंतजार था. मोदी ने कहा,



‘महादेव के आशीर्वाद से देश आज वो फैसले ले रहा है जो पहले पीछे छोड़ दिए जाते थे. जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का फैसला हो या फिर सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट. वर्षों से देश को इन फैसलों का इंतजार था. देश हित में ये फैसले ज़रूरी थे और दुनियाभर के सारे दबावों के बावजूद इन फैसलों पर हम कायम हैं और कायम रहेंगे.’


 


पीएम मोदी जंगमबाड़ी मठ में वीरशैव कुंभ में भी शामिल हुए. राम मंदिर को लेकर उन्होंने कहा,



राम मंदिर के लिए ट्रस्ट का गठन हो गया है और वो लगातार मंदिर बनाने के लिए काम करेगा. आज मां गंगा के तट पर एक अद्भुत संयोग बन रहा है. गंगा जब काशी में प्रवेश करती हैं तो अपनी दोनों भुजाएं फैला देती हैं. एक भुजा पर धर्म, दर्शन और आध्यात्म की संस्कृति विकसित हुई और दूसरी भुजा पर सेवा, त्याग, समर्पण और तपस्या है. दीनदयाल जी का स्मृति वन सेवा, त्याग, विराग और लोकहित से जुड़कर दर्शनीय स्थल के रूप में विकसित होगा.



‘पहले सरकारों को समस्या सुलझाने में रुचि नहीं थी’


मोदी ने कहा, ”आजादी के बाद लंबे समय तक समाज के आखिरी पायदान पर खड़े व्यक्ति की समस्याओं को बरकरार रखा गया, क्योंकि उस समय की सरकारों को इन समस्याओं को सुलझाने में रूचि नहीं थी. इनको उलझाने में उनके राजनीतिक हित सिद्ध होते थे. लेकिन अब स्थितियां बदल रही है, देश बदल रहा है. जो अबतक आखिरी पायदान पर रहा है, उसे अब सर्वोच्च प्राथमिकता दी जा रही है.” मोदी ने रविवार, 16 फरवरी को वाराणसी में 1254 करोड़ रुपए की लगभग 50 परियोजनाओं का उद्घाटन किया.