दिल्ली दंगे पर पश्चिमी मीडिया के 'पाखंड' का विश्लेषण

आज से 200 वर्ष पहले अंग्रेज़ों ने भारत को धर्म के आधार पर बांट दिया था. अंग्रेजों की 'फूट डालो और राज करो' वाली नीति की वजह से हिंदू और मुसलामन एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए थे. अंग्रेज बार-बार अपने षडयंत्र में सफल होते रहे और इसके नतीजे में भारत आज तक धर्म के आधार पर हुए बंटवारे का दर्द झेल रहा है. 73 साल पहले अंग्रेज़ भारत छोड़कर चले गए थे लेकिन विदेशी मीडिया आज भी हजारों मील दूर से ही भारत को बांटने की कोशिश में लगा है. सच ये है कि दिल्ली में दंगे हुए और इसमें दोनों धर्मों के लोग मारे गए लेकिन विदेशी मीडिया का एक बड़ा हिस्सा इसे भारत के मुसलमानों के खिलाफ की गई साजिश बता रहा है. आज हम विदेशी मीडिया के इस दुष्प्रचार का पर्दाफाश करेंगे.