हस्तशिल्प निगम और खादी बोर्ड से ऑनलाइन खरीदी कर सकेंगे सरकारी विभाग

कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री हर्ष यादव ने मंत्रालय के एनआईसी कक्ष में राज्य खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड और संत रविदास राज्य हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम के नवीन पोर्टल का शुभारंभ किया। यह पोर्टल सरकारी विभागों को खादी बोर्ड और हस्तशिल्प विकास निगम को क्रय आदेश देने, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर राशि का भुगतान करने में मददगार होगा। श्री यादव ने उम्मीद जताई कि अब दोनों उपक्रम अधिक गति से कार्यों को क्रियान्वित करेंगे।


शासकीय विभागों द्वारा वस्त्र एवं अन्य सामग्री क्रय करने की प्रक्रिया को भंडार क्रय नियम के अन्तर्गत सरल और पारदर्शी बनाने के लिये यह नया पोर्टल शुरू किया गया है। ई-कामर्स पोर्टल व्यवस्था में शासकीय क्रय कर्ता विभाग द्वारा मांग के अनुरूप उत्पादों के प्रदाय के आदेश 85 प्रतिशत अग्रिम राशि के साथ ऑनलाइन दिये जा सकेंगे। इसके लिये ऑनलाइन (बैंक ट्रांसफर, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग) और ऑफलाइन (चालान, एनईएफटी, आरटीईजीएस) राशि दी जा सकेगी। आदेश प्राप्ति पर निगम के अधिकृत प्राधिकारी निगम के विभिन्न उत्पादन केन्द्रों को वांछित सामग्री के अनुरूप मात्रा आवंटित करेंगे। इसके बाद उत्पादन केन्द्र संबंधित विभाग को सामग्री प्रदाय करेगा।


पोर्टल पर वस्त्रों और अन्य सामग्री की प्रदाय की दरें दर्शाई गई हैं। विभिन्न विभागों और कार्यालयों में वर्दी का कपड़ा, चादर, बस्ता कपड़ा, अस्पतालों में बैण्डेज एवं रोल बैण्डेज आदि के रूप में हाथकरघा बुनकरों द्वारा तैयार सामग्री प्रदाय की जाती है। हस्तशिल्प निगम ने इस वर्ष गत माह तक 10 करोड़ 70 लाख रूपये के वस्त्रों का प्रदाय सरकारी विभागों को किया है। निगम के 29 आउटलेट संचालित हैं। खादी बोर्ड के 20 आउटलेट चल रहे हैं। बोर्ड के प्रदेश में सूती, ऊनी, रेशनी और पोली वस्त्र के 12 उत्पादन केन्द्र हैं। इसके अलावा, तेलघानी एवं चर्म शिवण का भी एक-एक केन्द्र संचालित है।