जीवन में सफलता के लिए ईमानदारी और निष्ठा जरूरी : राज्यपाल श्री टंडन

राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने मानसरोवर दंत चिकित्सा महाविद्यालय के द्वितीय दीक्षांत समारोह में छात्र-छात्राओं से कहा कि ज्ञान का सेवा भाव से उपयोग करें। ईमानदारी और निष्ठा के साथ किए गये प्रयासों को ही सफलता मिलती है। उन्होंने कहा कि उपाधि प्राप्त करना एक पड़ाव है। यहाँ से समाज एवं राष्ट्र की सेवा के नए रास्ते खुलते हैं।


राज्यपाल ने विद्यार्थियों से कहा कि परिवार और समाज ने आपको योग्य बनाने के लिये जो किया है, उसे अब आपको प्रतिबद्धता और दक्षता के साथ परिवार और समाज को लौटाना है। उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश में महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों की संख्या बढ़ी है। अब शैक्षणिक गुणवत्ता का स्तर बढ़ाने की दिशा में सार्थक प्रयासों की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आज हमारे पास धन की कमी नहीं है। आवश्यकता व्यवस्थाओं का सुचारू रूप से संचालन करने की है। राज्यपाल ने मातृ भाषा में शिक्षा देने के प्रयासों पर भी बल दिया।


दीक्षांत समारोह में चिकित्सा, शिक्षा, आयुष और संस्कृति मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ ने कहा कि इस समारोह में 37 छात्राओं और 20 छात्रों को स्नातक एवं स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त हुई है। इससे स्पष्ट है कि लड़कियों का शिक्षा के क्षेत्र में प्रतिशत बढ़ा है। उच्च शिक्षा मंत्री श्री जीतू पटवारी ने उपाधियाँ प्राप्त विद्यार्थियों से कहा कि समाज की सेवा का संकल्प ले।


इस अवसर पर राज्यपाल ने मुम्बई के लीलावती हास्पिटल के डॉ. संजीव खन्ना को उत्कृष्ट सेवाओं के लिये सम्मानित किया। समारोह को मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. टी.एन. दुबे ने भी सम्बोधित किया।