नोवल कोरोना वायरस से बचाव के लिये प्रदेश में हाई अलर्ट जारी

प्रदेश में नोवल कोरोना वायरस से बचाव के लिये स्वास्थ्य विभाग ने हाई अलर्ट जारी किया है। इस वायरस से निपटने के लिये डॉक्टरों को विशेष ट्रेनिंग दी जा रही है। सभी जिला और सिविल अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड तैयार किये गये हैं। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलवाट ने इस संबंध में विभागीय तैयारियों की समीक्षा करते हुए यह जानकारी दी।


मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिये बड़े पैमाने पर जन- जागरुकता अभियान चलाया जाये। लोगों को इससे बचाव के घरेलू उपायों के साथ परम्परागत उपायों की जानकारी भी दी जाये। उन्होंने एयरपोर्ट पर आने वाले अन्तर्राष्ट्रीय यात्रियों को चिंहित कर उनसे फार्म भरवाने के लिये कहा। साथ ही, नगर निगम के अमले को मीट-मछली मार्केट की प्रतिदिन साफ-सफाई कराने और वहाँ दवाई छिड़कवाने के निर्देश दिये।


प्रमुख सचिव डॉ. पल्लवी जैन गोविल ने बैठक में स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों की जानकारी देते हुए बताया कि चीन से लौटे 6 लोगों को दिल्ली में रोका गया है। केन्द्र सरकार का स्वास्थ्य विभाग चीन से लौटने वाले प्रत्येक व्यक्ति को अपनी निगरानी में रखकर परीक्षण कर रहा है। ऐसे व्यक्तियों को 14 दिनों तक निगरानी में रखा जायेगा। उन्होंने बताया कि राज्य स्तर पर प्रतिदिन इस वायरस से बचाव के लिये किये जा रहे उपायों और इसके प्रभाव की नियमित समीक्षा की जा रही है। जिला स्तर पर कलेक्टर की अध्यक्षता में सभी चिकित्सक एसोसिएशन के प्रतिनिधियों के साथ टास्क फोर्स का गठन किया गया है। सभी जिला अस्पतालों में 5 बिस्तर और मेडिकल कॉलेजों में 10 बिस्तर के आईसोलेशन वार्ड बनाये गये हैं। प्रदेश के सागर, ग्वालियर, इंदौर, जबलपुर एवं रीवा मेडिकल कॉलेज को नोवल कोरोना वायरस के सेम्पल एकत्रित करने के लिये चिन्हांकित किया गया है। सेम्पल नि:शुल्क जाँच के लिये प्राईवेट कुरियर द्वारा एन.आई.वी. लैब, पुणे भेजे जायेंगे।