स्वयं पर निर्भर होकर प्रभु की ओर चलें: आचार्य सुधांशु

भोपाल। यदि अपेक्षाओं को दूसरों पर रखकर जियेंगे तो दुख मिलेगा।  स्वयं पर निर्भर होकर प्रभु की ओर चलें। आचार विचार की शुद्धि अपनाएं। यही भगवान श्री कृष्ण ने गीता में संदेश दिया है। गीता के श्लोकों की व्याख्या करते हुए आचार्य श्री सुधांशु जी  महाराज ने उक्त बातें कहीं।

भोपाल मंडल द्वारा लाल परेड मैदान में विराट भक्ति सत्संग के तीसरे दिवस के प्रवचन में विशाल जन समूह उमड़ा। महाराज श्री ने सत्संग में गीता के 12 अध्याय के अमृताष्टक के मुख्य बिंदु बताए। उन्होंने बताया कि हमारी सारी खुशियां तभी मिलेगी जब हम स्वयं पर निर्भर होते हैं। समस्या तभी आती है जब हम दूसरों पर निर्भर रहते हैं।  आचार्य श्री सुधांशु जी ने कहा कि अच्छी आदतों के साथ जीवन जीना बहुत आसान होता है। किंतु अच्छी आदतें कठिनाइयों से आती हैं। वहीं बुरी आदतें आसान होती है,  परंतु जीवन को अत्यंत कठिन बनाती हैं।

उन्होंने आगे कहा कि संकल्प और विकल्प करना मन का काम है। परंतु इसमें जो इसमें से कौन सा विचार टिकना चाहिए कौन सा नहीं, इसका नियंत्रण करना आवश्यक है। क्योंकि निराशाजनक विचार दीमक की तरह हैं, जो भविष्य को खोखला करते हैं। स्वयं के स्वयं से मीटिंग करें इसी का नाम चिंतन है। अपनी हस्ती चाहते हो तो मस्ती बहुत जरूरी है। इसलिए जिन विचारों से जीवन कीमती बने उन विचारों को पाने के लिए जब भी अवसर मिले जहां भी मिले वहां जाना चाहिए। भगवान श्री कृष्ण ने भगवत गीता के श्लोक की व्याख्या करते हुए कहा कि *व्यथा इसलिए  है, क्योंकि व्यवस्था में  कमी है। इसलिए व्यवस्था करेंगे तो व्यथा दूर हो जायेगी।

आचार्य जी ने स्वच्छ भारत अभियान का उल्लेख करते हुए अपने नगर की स्वच्छता के प्रति जागरूक होने की बात कही। इसके साथ ही पर्यावरण के लिए पौधारोपण करने का  संदेश भी दिया। कार्यक्रम में मध्य प्रदेश शासन के मंत्री पी सी शर्मा एवं जीतू पटवारी श्रोता के रूप में उपस्थित थे।  विधायक द्वय  श्रीमती कृष्णा गौर एवं कुणाल चौधरी भी उपस्थित थे। इसके पूर्व भोपाल मिशन के प्रधान श्री एमपी उपाध्याय, जी.आर.गाधी,राज मनवानी, लक्ष्मन लीलानी, अजय श्रीवास्तव नीलू, वासुदेव भादे, महेश अतुलकर, मुख्य संरक्षक श्री ओपी जुनेजा , उपेन्द्र तोमर ,उपस्थित गणमान्य  नागरिकों ने महाराज जी का माल्यार्पण कर स्वागत किया। दीप प्रज्वलन से कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। उक्त आशय की जानकारी एम.पी.उपाधयाय, अजय श्रीवास्तव नीलू ने दी।