जो राज़ 'एमएस धोनी' मूवी में भी नहीं खुला वो धोनी ने अब खोल दिया

न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खराब फॉर्म और खराब कप्तानी के लिए कई लोग विराट कोहली की आलोचना कर रहे हैं. लेकिन एक खिलाड़ी और है जिसकी फॉर्म, उम्र को लेकर सात महीने पहले खूब सवाल उठे थे. विश्वकप सेमीफाइनल में टीम इंडिया की हार के बाद उस खिलाड़ी को फिर टीम में वापसी का मौका नहीं मिला. लेकिन अब वो लौट आया है. लौट आया है आलोचकों को जवाब देने के लिए. वो भारतीय क्रिकेट का ऐसा नाम है जिसे किसी पहचान की ज़रूरत नहीं है. नाम है महेन्द्र सिंह धोनी.


धोनी चेन्नई में आईपीएल की अपनी टीम चेन्नई सुपर किंग्स के साथ जुड़ गए हैं. आईपीएल शुरू होने से लगभग 25 दिन पहले टीम के साथ जुड़ना धोनी की स्ट्रेटजी बताई जा रही है. टीम के साथ पहले प्रैक्टिस सेशन के बाद धोनी ने स्टार स्पोर्ट्स के शो ‘रिटर्न ऑफ द लायन’ में बातचीत भी की. उन्होंने बताया कि किस तरह से सीएसके ने उन्हें बेहतर इंसान और खिलाड़ी बनने में मदद की.


 


धोनी ने बताया


”मेरा ये सफर 2008 में शुरू हुआ और सीएसके ने मुझे सिर्फ क्रिकेटर नहीं, एक बेहतर इंसान भी बनाया. मैदान पर या फिर मैदान के बाहर भी मुश्किल परिस्थितियों से कैसे निपटना है, ये मैंने सीएसके से सीखा. कुछ भी अच्छा करने के बाद किस तरह से विनम्र रहा जाता है ये सब मुझे इस टीम के साथ रहकर सीखने को मिला.”


धोनी से जब ‘थला’ पुकारे जाने को लेकर सवाल पूछा गया तो उनका जवाब था,


”थला का मतलब भाई होता है, ये मेरे लिए फैंस के प्यार की झलक है. मैं जब भी कभी चेन्नई में होता हूं या फिर साउथ में होता हूं तो वो लोग मुझे नाम से नहीं थला कहकर ही पुकारते हैं.”


धोनी के अलावा टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज़ी कोच संजय बांगर ने भी धोनी पर बात की. उन्होंने कहा,


”एकदम से रिदम पाना थोड़ा मुश्किल होता है. लेकिन ये एक बड़ा एडवांटेज भी है, क्योंकि जब आप जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे होते हैं तो आप पर बहुत अधिक दबाव होता है. आपके ऊपर बहुत सी ज़िम्मेदारी होती है. इसलिए एक खिलाड़ी के नज़रिये से अगर आप छह-सात महीने से क्रिकेट से दूर हैं तो आपके पास ज्यादा अच्छा मौका है खुद को फिर से रीफ्रेश करके, तैयार करके लौटने का.”


आईपीएल की शुरुआत 29 मार्च से होनी है. आईपीएल 2020 का पहला मैच मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच होना है. जिन्होंने पिछले साल का फाइनल भी खेला था.


भारतीय टीम को इसी साल के आखिर में ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्वकप भी खेलना है. जिसमें टीम का मुख्य विकेटकीपर कौन होगा. इसे लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है. लेकिन कोच रवि शास्त्री ने कई इंटरव्यूज़ में ये बात कही है कि अगर धोनी आईपीएल में अच्छा करते हैं तो वो भी विश्वकप के लिए कंटेंडर हो सकते हैं.